Dr Anuj's Advance Healthcare

Dr Anuj's Advance Healthcare 7081652723

URETHRAL STRICTURE (यूरेथ्रल स्ट्रिक्चर)

blog post

यूरेथ्रल स्ट्रिक्चर ( मूत्र नली की सिकुड़न) का दूरबीन द्वारा उपचार - मूत्र नली (यूरेथ्रा) वह नली है जिससे हो कर मूत्र, पेशाब की थैली से बाहर उत्सर्जित होता है। मूत्र नली में सिकुड़न के मुख्य कारण हैं - चोट लगना, लम्बे समय से मूत्र नली का इन्फेक्शन, मूत्र नली का आपरेशन; कभी कभी कैंसर के कारण । कभी कभी यह रोग बिना इन्फेक्शन के भी ( मुख्यत: सिंथेटिक रंग/ डाई से सम्बंधित काम करने वाले लोगों को) होता देखा गया है। यूरेथ्रल स्ट्रिक्चर के मुख्य लक्षण हैं - पेशाब करते समय जलन, पेशाब की धार कमज़ोर होना, मूत्र त्याग के लिए जो़र लगाना पड़ना और ज़्यादा पुराना रोग होने पर पेशाब रुक जाना। यूरेथ्रल स्ट्रिक्चर का उपचार दूरबीन द्वारा सिकुड़न वाली जगह पर चीरा लगा कर और चौड़ कर किया जाता है। इस प्रक्रिया में मूत्र नली (यूरेथ्रा) में एक पतली दूरबीन ( सिस्टो-यूरेथ्रोस्कोप) डाली जाती है जिससे मूत्र नली का सिकुड़न वाला भाग देख कर, एक पतले महीन धार वाले चाक़ू से सिकुड़न वाले भाग पर चीरा लगाया जाता है। इस विधि में दर्द बिल्कुल नहीं होता, शरीर पर कोई चीरे नहीं लगते और अगले ही दिन अस्पताल से छुट्टी हो जाती है।